JNU में कन्हैया को सिखाया सबक:भारतीय

attack

JNU मामले में आरोप लगने के बाद कन्हैया लगातार चर्चा में बने हुए है, जेल से रिहा होने के बाद तो कन्हैया हर न्यूज चैनल पर अपने विचार खुल कर रखते हुए दिखाई दिए, इसका परिणाम ये हुआ कि जहां एक तरफ उनके समर्थकों की संख्या में बढ़ोत्तरी हुई तो वहीं दूसरी तरफ कन्हैया के विरोधियों की संख्या में भी इजाफा हुआ.

कन्हैया का भाषण सुनने के बाद हर भारतीय का खून खौल उड़ेगा और वो कभी भी इस तरह का शब्द नही सुन सकता है.विकास ने जो कुछ भी किया वो भारतीय को करना चाहिए अन्यथा भारत फिर से गुलाम हो जयेग.देश के विरुढ़ बोलने वालो काबुरा हाल होना चाहिए.

ऐसे कन्हैया का समर्थन करने वाले लोगों ने उसकी सुरक्षा को लेकर चिंता जताई और इस हमले को सोची समझी साजिश करार दिया है. हालांकि हमलावर की पहचान सिर्फ नाम तक हो पाई है, ये जानने की कोशिश की जा रही है क्या हमलावर किसी संगठन से भी जुड़ा हुआ है.

विकास ने कहा :सबक सिखाना चाहता था

कन्हैया पर हमला करने वाले शख्स से पूछताछ कि जा रही है, जानकारी मिल रही है कि विकास का कहना है कि वो कन्हैया के बयानों से नाराज होकर हमला करना चाहता था. उसका कहना है कि कन्हैया को सबक सिखाने के लिए आया था, लेकिन उसकी कोशिश नाकाम हुई.
ऐसे में एक अहम सवाल उठता है कि क्या हमारा देश अपनी सहमति और नाराजगी को लेकर लोगों पर सीधा हमला करना चाहता है. कन्हैया ने जो किया वो सही या गलत. उसका फैसला कोर्ट करेगा लेकिन इस तरह कानून व्यवस्था को धता बताना कितना जायज रहता है.

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.