मिथिला स्टूडेंट युनियन ने उत्तर बिहार के विकास के लिए 162 किलोमिटर पद यात्रा शुरु की

a0597027-8bc6-4b18-aa63-ccea3a42223d

17-02-2019 से मिथिला स्टूडेंट युनियन के द्वारा मिथिला विकास बोर्ड की माँग को ले कर जयनगर से सैकड़ो छात्र – नोजवान के साथ पद यात्रा शुरु की गई जो मधुबनी- झंझारपुर-दरभंगा होते हुए 162 किलोमिटर दूरी तय कर 25 फरवरी को एनएच-57 पे पहुचेगी और वहाँ पहुच कर एनएच-57 पर अनिश्चितकालीन धारणा करेगी।
मिथिला स्टूडेंट युनियन के द्वारा लगातार पिछले 2 वर्ष से उत्तर बिहार के क्षेत्र को विकसित करने के लिए केंद्र सरकार से एक अगल विकास बोर्ड बनाने की माँग कर रही हैं।
पिछले ही वर्ष हजारो लोगो के साथ सांसद मार्ग पे पैदल मार्ग कर नीति आयोग के पास अपनी माँग सोपी थी। तो वही 01 अक्टोबर को सम्पूर्ण उत्तर बिहार बंद का आवाहन भी किया था जिसका मधुबनी, झंझारपुर दरभंगा, समस्तीपुर सहित आस पास के जिले मे व्यापक असर देखने को मिला थाl 02 दिसंबर को दरभंगा के राज मैदान मे विशाल जनसभा का भी आयोजन किया जिसमें उत्तर बिहार के सभी जिले से 15 हजार से भी अधिक की संख्या मे छात्र-नौजवानों भाग लेने पहुचे थे।

1eec3e0e-943f-4a7e-9df8-5e31235a9a04 41d7e3d9-9616-4be8-bb9d-22125fb66dd2 a7ba7665-be56-4fef-989d-7d2942ae66aa
युनियन के मुजफ्फरपुर जिलाध्यक्ष नितिन सिंह ने कहा की उत्तर बिहार का क्षेत्र हर दृष्टि कोन से बहुत ही पीछे हैं आज तक केंद्र और राज्य सरकार आज तक उत्तर बिहार के साथ सिर्फ और सिर्फ सौतेला व्यबहार किया हैं विकास की राह मे उत्तर बिहार बहुत ही पीछे रह गया अगर बात सिर्फ मुजफ्फरपुर की करे तब मोतीपुर चीनी मिल जिसका मिठास पुरे विश्व प्रसिद्ध थी जो एक साजिश के तहत बंद कर दिया गया और इस क्षेत्र को लेबर जोन बना दिया गया,जिला मुख्यालय से मात्र 35 किमी दूरी पे औराई – कटरा का क्षेत्र हैं जो आज भी चचरी पुल के सहारे अपना जीवन व्यतित कर रहे।
इतनी बड़ी संख्या के लिए एक मात्र अस्पताल एसकेएमसीएच की हालात किसी के छुपी हुयी नही हैं वो आज खुद ही आखिरी साँस गिन रहा हैं
इतना ही नही हम बात चाहें शिक्षा की करे या स्वास्थ्य रोजगार की हर चीज़ ये क्षेत्र बहुत ही पीछे छूट गया हैं और हर चीज़ के आज इन क्षेत्र के लोगो को पलायन करना होता हैं इस सब चिज़ो से मुक्ति पाने का एक मात्र जरिया हैं अब इस क्षेत्र के विकास के लिए अगल विकास बोर्ड बने जिसकी माँग लगातार ही हम लोग कर रहे हैं।

विश्वविद्यालय अध्यक्ष दावूड इब्राहिम ने कहा की आज तक हमने सत्ता से हमेशा अपनी माँग शान्तिपुर्ण ढ़ंग से रखा किन्तु उनके कान पे जु तक नही रेंगी तब जा कर हमलोगो को ये रास्ता चुनना पड़ा अब फिर से उत्तर बिहार को विकास की राह पर लाने के लिए एक मात्र उपाय हैं की इस क्षेत्र के विकास के लिए केंद्र सरकार इन 20 जिलों की जिसकी जनंसख्या 7 करोड़ हैं उसके विकास के लिए 1 लाख करोड़ मिथिला विकास बोर्ड के माध्यम से ख़र्च करे ये हमारा अधिकार हैं इसको लेने के लिए हम किसी भी हद तक जा सकते हैं इसकी पुरी जिम्मेदारी केंद्र और राज्य सरकार होगी ।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.